डॉ. लाल पैथलैब्स के लाखों मरीजों का डाटा लीक, कोरोना जांच रिपोर्ट भी शामिल


सांकेतिक तस्वीर
– फोटो : पिक्साबे

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for simply ₹299 Restricted Interval Provide. HURRY UP!

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

एक नए डाटा लीक में लाखों मरीजों का डाटा उनकी कोरोना जांच के परिणाम समेत लीक हो गया है। टेकक्रंच की रिपोर्ट के मुताबिक भारत की सबसे बड़ी जांच प्रयोगशालाओं में से एक डॉ. लाल पैथलैब्स लाखों मरीजों का निजी डाटा सुरक्षित रखने में नाकाम रही है। 

डॉ. लाल पैथलैब्स मरीजों का संवेदनशील डाटा अमेजन वेब सर्विसेज (एडब्ल्यूएस) पर बिना पासवर्ड के रख रही थी। असुरक्षित क्लाउड सर्वर पर यह डाटा करीब एक साल तक रहा। किसी प्रकार का कोई पासवर्ड न होने के चलते इस डाटा तक कोई भी पहुंच सकता था।

इस डाटा में मरीजों की जानकारी, जैसे कि उनका नाम, पता, फोन नंबर ईमेल आईडी, पेमेंट जानकारी, डिजिटल सिग्नेचर और उन चिकित्सकीय जांचों का ब्योरा भी था जो उन्होंने करवाई थीं। कहा जा रहा है कि लीक डाटा में कोरोना जांच की जानकारी भी शामिल है। 

डॉ. लाल पैथलैब्स का यह डाटा सार्वजनिक डोमेन में था और सितंबर तक कोई भी इस तक पहुंच सकता था। सितंबर में ऑस्ट्रेलिया की साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट सामी तोइवोनेन ने डाटा लीक की जानकारी दी। जिसके बाद डाटा तक पहुंच को तुरंत बंद कर दिया गया।

इस संबंध में डॉ. लाल पैथलैब्स के एक प्रवक्ता का कहना है कि डाटा सुरक्षा में सेंध की जांच की जा रही है। 

एक नए डाटा लीक में लाखों मरीजों का डाटा उनकी कोरोना जांच के परिणाम समेत लीक हो गया है। टेकक्रंच की रिपोर्ट के मुताबिक भारत की सबसे बड़ी जांच प्रयोगशालाओं में से एक डॉ. लाल पैथलैब्स लाखों मरीजों का निजी डाटा सुरक्षित रखने में नाकाम रही है। 

डॉ. लाल पैथलैब्स मरीजों का संवेदनशील डाटा अमेजन वेब सर्विसेज (एडब्ल्यूएस) पर बिना पासवर्ड के रख रही थी। असुरक्षित क्लाउड सर्वर पर यह डाटा करीब एक साल तक रहा। किसी प्रकार का कोई पासवर्ड न होने के चलते इस डाटा तक कोई भी पहुंच सकता था।

इस डाटा में मरीजों की जानकारी, जैसे कि उनका नाम, पता, फोन नंबर ईमेल आईडी, पेमेंट जानकारी, डिजिटल सिग्नेचर और उन चिकित्सकीय जांचों का ब्योरा भी था जो उन्होंने करवाई थीं। कहा जा रहा है कि लीक डाटा में कोरोना जांच की जानकारी भी शामिल है। 

डॉ. लाल पैथलैब्स का यह डाटा सार्वजनिक डोमेन में था और सितंबर तक कोई भी इस तक पहुंच सकता था। सितंबर में ऑस्ट्रेलिया की साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट सामी तोइवोनेन ने डाटा लीक की जानकारी दी। जिसके बाद डाटा तक पहुंच को तुरंत बंद कर दिया गया।

इस संबंध में डॉ. लाल पैथलैब्स के एक प्रवक्ता का कहना है कि डाटा सुरक्षा में सेंध की जांच की जा रही है। 

<!– if((isset($story['custom_attribute']) && $story['custom_attribute']=='outcomes') && (isset($story['custom_attribute_value']) && $story['custom_attribute_value']=='2020'))

10वीं और 12वीं बोर्ड का रिजल्ट सबसे पहले जानने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म को भरें और अपना रजिस्ट्रेशन करवाएं।

endif –>



Source link

Spread the love

Leave a Comment